Followers

Monday, 16 April 2018

जिसकी भी कमीज उतारी वही जनेऊधारी निकला।

                       परसों रात एफ एम सुन रहा था तो एक चैनल पर प्रधान जी को बोलते हुए सुना।सोचा कोई विज्ञापन होगा मैंने चैनल बदल दिया दूसरे चैनल पर समाचार  रहे थे। सोचा समाचार ही सुन लिए जाए। बहुत दिन हो गए रेडिओ पर समाचार सुने। समाचार वाचक कह रही थी कि राष्ट्रपति कहीं यात्रा पर जा रहे है उससे भारत को बहुत लाभ होगा। प्रधानमंत्री भी कहीं यात्रा पर जा रहे है उससे स्वाभाविक ही है कि भारत को बहुत लाभ होगा। दूरसंचार मंत्री भी बरेली या अमेठी  जा रही हैं। उससे भी बहुत लाभ होना है। उसके बाद किसी मंत्री का बयान बाँचा गया। मंत्री जी किसी सरकारी योजना के बारे में बता रहे थे कि उससे देश को बहुत लाभ होगा। मैंने समाचार के इन्तजार में कुछ वक्त जाया किया पर सब व्यर्थ ही गया। फिर ऍफ़ एम के चैनल बदलने लगा। कहीं बेहूदा गाना  रहा था तो कहीं बहुत बेहूदा गाना  रहा था फिर वही चैनल लग गया जहाँ प्रधान जी बोल रहे थे। अब दिल की धड़कन बढ़ने लगी। दस दस मिनट के विज्ञापन तो नहीं हो सकते। फिर भी रात के उस वक्त दिल यकीन नहीं करना चाह रहा था कि प्रधान जी बोल रहे है। 8 नवंबर 2016 की रात अभी भूली कहाँ थी जब मैं ऑफिस से घर आया तो प्रधान जी टीवी पर बोल रहे थे वो वक्त तो ऐतिहासिक था। वो वक्त है और आज का वक्त है रात के वक्त तो टीवी को खोलते हुए डर लगता है। मैंने अपने दिल को बहलाया कि जब आजकल 3 -3 घंटे की फ़िल्में विज्ञापन के रूप में सरकार की तारीफ करते हुए बनाई जा सकती है तो दस मिनट का विज्ञापन आना कौन बड़ी बात है। बेशर्मो की फ़ौज है बेशर्मी का दौर है। ऐसी चैनल बदलते बदलते पांच दस मिनट में फिर उसी चैनल पर प्रधान जी बोलते सुने तब तो यकीन करना पड़ा कि ये अदा बेवजह नहीं है कुछ तो है। फिर सुना तो प्रधान जी भीमराव अम्बेडकर के गुण गा रहे थे। फिर पता लगा कि बाबा साहेब अम्बेडकर के जन्मदिन की पूर्व संध्या पर भाषण दिया जा रहा है। अगले दिन यानी 14 अप्रैल को पूरी दिल्ली में जगह जगह जलसों का आयोजन बीजेपी द्वारा किया जा रहा था। मैं चाहकर भी किसी जलसे में शामिल नहीं हो सका वरना बहुत दिलचस्प बातें सुनने को मिल सकती थी। जिस अम्बेडकर को पिछले 70 सालों से बीजेपी के नेता और उसकी पार्टी के पक्के वोटर ( मतलब बीजेपी के आलावा चारा क्या है वाले ) बिना पानी पिए कोसते रहे है। गालियां देते रहे है। वो अम्बेडकर के सम्मान में क्या बोले होंगे। अपने बरसों की कुंठा और आदत को किस तरह छुपाया होगा। सभी प्रधान के जितने बेहतर अदाकार तो नहीं हो सकते जो चरित्र के अंदर इतने घुस जाए कि पीछे का कुछ याद  रहे। बस वो डायलॉग याद रहे जो उस दिन बोलना है। ये सब की बस का रोग नहीं है। ये छुटभैये अग्रवाल साहब , ठाकुर साहब , पांडे साहब उन विभिन्न जलसों में क्या बोले होंगे। किसी ने ये कह दिया तो बड़ी बात नहीं होगी कि अम्बेडकर जी तो आरक्षण सिर्फ दस साल के लिए लागू कर के गए थे बाद वालों ने बेड़ा गर्क कर दिया। सच में मैंने ये बात 25 साल का होने तक इतनी बार सुनी थी कि ये बात मेरे लिए उन बातों में थी जिन पर बहस का लॉजिक ही नहीं था जैसे सूरज चाँद सितारे सच है जैसे धरती गोल है सच है ये बात भी उतनी ही सच है कि आरक्षण तो दस सालों के लिए आया था। कितने ही मासूम आज भी ऐसे है जिनके लिए दुनिया का सबसे बड़ा सच यही है कि 2 तारीख का विरोध प्रदर्शन आरक्षण के पक्ष में था। दरअसल तथाकथित उच्च जाती के बीमार लोगों के लिए दलित , शोषित का नाम आते ही सिर्फ एक चीज ध्यान में आती है वो है आरक्षण। जैसे मैंने बताया सभी प्रधान जितने प्राकृतिक अदाकार नहीं हो सकते। बहुत से प्रगतिशील लोगों से भी ये भूल हो गयी होगी जाने अनजाने में 2 तारीख के प्रदर्शन को आरक्षण से जोड़ दिया होगा। मुझे उनसे हमदर्दी है। अब 24 घंटे प्रगतिशीलता का अभिनय करना भी उबाऊ काम है। भले ही इमेज मुश्किल से बनी हो फिर भी इंसान की अपनी सीमाएं है। ग़लतियाँ हो जाती है। कई बार अंदर से आवाज आने लगती है।  जब गुस्सा आता है जब संवेदना की सारी सीमाएं पार होने लगती है जब अपने अंदर असीम दर्द का सागर छलकने लगता है जब चुप रहना नामुमकिन हो जाता है तब  अपने आप लिखा जाता है   जिसकी भी पूँछ उठाई वो मादा निकलता है।  मुझे अक्सर अचरज होता था ये सोचकर कि  धूमिल जैसे कवि ऐसी लाइन को अपनी कविता में स्थान कैसे दे सकते है। ये तो बहुत बहुत ही सीधी बात थी। पर जब जैसे जैसे मैं 2018 से मेरा परिचय हुआ आश्चर्य ने मेरा साथ छोड़ दिया। धूमिल की बात पर दोस्त भावुक हो जाते है। मैं नकारात्मक लिखता हूँ धूमिल ने बहुत अच्छा लिखा है। वो वक्त ही ऐसा था जब औरतों पर इतना नहीं सोचा जाता था। एक कविता के पीछे नहीं पड़ना चाहिए। मैं जब जब उनके ऐसे मूर्खता भरे तर्कों से सहमत होने की कोशिश करता हूँ तभी कोई  कोई महानुभाव 2018 में  लाइन लिख लिख देता है और मासूमियत से कहता है मैंने नहीं ये तो धूमिल ने कहा था। धरती गोल है सबको पता है। इसे साबित करने के लिए आज भी  सब कितने लालायित रहते है। भारत देश में जब एस सी एस टी एक्ट  लागू हुआ तब यहाँ के बीमार लोगों को अहसास हुआ कि शोषित लोगों की जातियों को गाली बनाकर अपनी कुंठा नहीं निकाली जा सकती है। इसी का असर है कि चंद बहादुरों को अपवादस्वरूप छोड़ दे तो आज किसी भी आदमी की हिम्मत नहीं है फेसबुक पर मजाक में , कुंठा में , गुस्से में , फ्रस्ट्रेशन में ऐसी गाली का उपयोग कर ले जो शोषित , दलित लोगों की जातियों पर बनी हो। वो सारी कुंठा फिर औरत पर निकलती है। तो प्रगतिशील लोग भी धड़ल्ले से फेसबुक जैसे पब्लिक प्लेटफॉर्म पर नारी विरोधी गालियाँ देते है कूल यानी ठन्डे लोगों  के लिए तो खैर गालियां ऑक्सीजन है ही। कितना मुश्किल है ये अंदाजा लगाना जो लोग सार्वजानिक स्थानों पर ऐसे शब्दों का  केवल इस्तेमाल करते है बल्कि बेशर्मी की हद तक जस्टिफाई भी करते है वो जब अपने मर्द दोस्तों के जमावड़े में होते होंगे तो क्या क्या शब्द इस्तेमाल नहीं करते होंगे। पर गाली से क्या होता है। कुछ नहीं होता। तभी एस सी एस टी एक्ट हट जाना चाहिए सभी जातियों का मजाक उड़ाया जाता है। ब्राह्मण भी गरीब होते है इसमें क्या है आरक्षण नहीं होना चाहिए। मतलब आर्थिक आधार पर होना चाहिए। मजाक तो ब्राह्मणो का भी उड़ाते है। गाली कैसे नारी विरोधी हुई मैं तो कभी औरतों को गाली नहीं देता। हमेशा मर्दों को ही गाली देता हूँ। अपने दोस्तों को मजाक में देता हूँ दुश्मनो को फ्रस्ट्रेशन , गुस्से में देता हूँ। पर ये नारी विरोधी कैसे हो गया ? मैं तो औरतों का बड़ा सम्मान करता हूँ उनको तो कभी गाली नहीं दी। अहा ऐसे ही किसी तर्क वितर्क में जब शायर को सर फोड़ने को दीवार नहीं मिली होगी तो उसने लिखा होगा  इस सादगी पर  कौन  मर जाए  खुदा लड़ते है और हाथ में तलवार भी नहीं।  इस सादगी , मासूमियत से बिना मरे पीछा नहीं छूट सकता। खैर मैं कह रहा था सभी प्रधान जैसे अभ्यस्त कलाकार सब नहीं होते। उसी वक्त जब पूरी बीजेपी जोशो खरोश से अम्बेडकर जयंती बना रही थी। उसी समय अख़बार में खबर आती है पंजाब में दलित संगठनों और हिन्दू संगठनों में टकराव। हिन्दू संगठन के चार प्रतिनिधि गिरफ्तार। अब लिखने वाला उतना अभ्यस्त नहीं था। हिन्दू हिन्दू का जाप करते बीजेपी सत्ता में आयी चार साल हिन्दू हिन्दू सनातन का प्रचार किया, गणेश के हाथी के सर को मॉडर्न साइंस बताया। दलितों , शोषितों पर हो रहे अत्याचारों में दिन दौगुनी रात चौगुनी बढ़ोतरी हुई। सबको पता है हिन्दुओ और दलितों में छतीस का आंकडा है। पर पांचवे साल बीजेपी अम्बेडकर जयंती बना रहे है। अगले साल चुनाव है। अल्ताफ भाई के शब्दों में कहे तो वो साल दूसरा था ये साल दूसरा है। चुनावों के बारे में ढेरों थेओरी है। मुझे सब पर यकीन भी है पर जब बीजपी जैसे हिन्दू संगठन को अम्बेडकर की पूजा करते देखता हूँ तो लगने लगता है सब कुछ बिलकुल ही फिक्स तो नहीं है। खैर ये बड़े लेवल की बातें बड़े लोग जाने मुझे तो कुछ समझ नहीं आता। समझ में आता है तो ये कि सभी प्रधान जैसे परफेक्ट नहीं हो सकते। जैसे अख़बार का वो बन्दा नहीं था जिसने ये खबर लिखी। खबर कोई खास नहीं थी। पंजाब के फगवाड़ा में दलित संगठन गोल चौक का नामा संविधान चौक रखने की मांग कर रहे थे जिससे हिन्दू संगठन नाराज हो गए तनाव हो गया। ये तो अब कोई बताने की बात नहीं है कि सरकार ने नेट बंद कर दिया। नेट बंद करने पर सरकार का ध्यान सबसे पहले रहता है। कुछ हो  हो नेट बंद कर दो। नेट गाथा फिर कभी, अभी बात हिन्दू संगठनों की हो रही थी। तो ये सब तो नॉर्मल रहा है भारत में। हिन्दू संगठन अम्बेडकर की मूर्ति तोड़ते रहे है। संविधान से उनका बैर पुराना है। तो संविधान चौक कैसे बन सकता है। यही संविधान तो था जिसने उन्हें औरत को जिन्दा जलाने से रोका , यही संविधान उन्हें गालियाँ देने से रोकता है। तो ये खबर तो सालों से ऐसे ही आती रही है पर अख़बार वाला भूल गया ये साल दूसरा है। इस साल तो सबसे बड़ा हिन्दू संगठन चीख चीख कर कह रहा है कि दलित भी हिन्दू है। बल्कि दलित ही हिन्दू है हम तो ऐसे ही हैं। जो है वो दलित ही है। अम्बेडकर से महान कौन है। अब ऐसे वक्त में अख़बार में खबर  रही है कि हिन्दू संगठन और दलित संगठन में टकराव। कोई समझदार और अनुभवी होता तो लिखता जातीय टकराव। हिन्दू  आपस में ही लड़ रहे है तभी भारत ग़ुलाम रहा है पर कोई बात नहीं कुछ बात है हस्ती मिटती नहीं हमारी। आपस की बात है कोई गल ही नहीं। जातिगत राजीनीति नहीं होनी चाहिए सब ठीक हो जायेगा। पर भाई ने तो लिख दिया कि हिन्दू संगठन दलित संगठन से टकराव कर रहे है माने मतलब साफ़ है कि हिन्दू संगठन सिर्फ बीमार जातियों का संगठन है उससे दलितों का सिर्फ वही सम्बन्ध है जो शोषक और शोषित के बीच में होता है यानी शोषण का।  वो खबर लिखने वाला अभ्यस्त अदाकार नहीं था। अपने नए डायलॉग भूलकर वही याद रखे हुए था जो बचपन से उसे सिखाया हुआ था। या सच में क्रांतिकारी था जो जानबूझकर ऐसी गुस्ताखी कर रहा था जो भी हो इसमें कोई शक नहीं कि प्रधान जी बेहतरीन अदाकार है। सब अनुभव और प्रेक्टिस से आता है आज कल तो वो " इंस्पाइट ऑफ़ बीइंग  वुमन " भी नहीं बोलते। सब प्रधान जी नहीं हो सकते। कभी  कभी गाली निकल ही जाती है। कभी मुंह से निकल जाता है जिसकी भी पूंछ उठाई वो ही मादा निकलता है। ये भी एक आश्चर्य की बात है पूँछ उठाकर नर मादा चेक करने वाले कवि को कभी कमीज के बटन खोलकर जनेऊ चेक करने का ख्याल नहीं आया। ये मुहावरा तार्किक भी होता "जिसकी भी कमीज उतारी वही जनेऊधारी निकला " मतलब इंसान के आजकल पूंछ कहाँ होती है।  जनेऊ वाली बात ज्यादा तार्किक लगती। शोषक के खिलाफ भी होती। जनेऊ के बारे में आज मैं जागरण अख़बार की वेबसाइट पर पढ़ रहा था तो बहुत दिलचस्प बात पता लगी कि जनेऊ उस रग को कंट्रोल करता है जिससे स्पर्म बाहर निकलते है तो जनेऊ स्पर्म को पेशाब के रास्ते बाहर निकलने से बचाता है। बताओ इतनी क्रन्तिकारी बात मुझे आजतक पता नहीं थी। खैर आजकल बहुत लोग जनेऊ नहीं पहनते। जो चीज आपने अपने जमीर पर ही पहन ली हो तो उसे तन से लपेटने का दिखावा क्या करना।  

No comments:

Post a Comment