Followers

Tuesday, 17 April 2018

एक फिल्म एक कहानी

फोन और सोशल मिडिया छोड़ने के बाद अभी इतना समय बचता है कि मैं हर रोज आराम से एक फिल्म देख सकता हूँ किस्तों में ही सही। किताब भी पढ़ सकता हूँ। तो मुझे लगा और कुछ  भी लिखूं तो कम से कम जोफिल्म और किताब मैं पढ़ रहा हूँ उसके बारे में तो हर रोज लिख ही लूँ। इसी बहाने लिखने की आदत भी बरक़रार रह जाएगी। आई थिंक इट इज  गुड आइडिया। इनफैक्ट इट इज  डेम गुड आइडिया। फिल्मों औरकिताबों के बारे में सबसे मुश्किल बात यही होती है कि क्या पढ़ा जाए क्या देखा जाए इसका नहीं पता होता। किताबों के बारे में तो फिर भी अब मुझे कम से कम ये पता है कि क्या पढ़ना है। फिल्मो के बारे में इतना नहींपता। फिल्मो के बारे में मेरा जो पहला गाइड था उसके पास लिमिटेड स्टॉक था। उसकी मेरी पसंद में भी दिक्क्त थी। मेरी नयी गाइड बहुत अच्छी है उसकी बताई हुई फिल्म मुझे बहुत पसंद आती है। 

कल मैंने उसकी बताई हुई फिल्म देखी  -  हेल्प। दिल को खुश कर देने वाली फिल्म है। इतनी भावुक और सच्ची फिल्म है कि दोबारा देखने का दिल करता है। खासकर मिनी का चरित्र। फिल्म की कहानी 1960 केअमेरिका के मिसिसिपी स्टेट की है जहाँ पर एक 24 साल की व्हाइट लड़की स्कीटर के दिमाग़ में ख्याल आता है कि गोरो के बच्चो को पालने वाली और उनके घर की दशकों दशक देखभाल करने वाली ब्लैक औरतों केअनुभवों पर उनकी जुबानी ही किताब लिखी जाए। शुरुवात में उसे नाकामी हाथ लगती है। कोई भी ब्लैक औरत अपने अनुभव नहीं बताती। बाद में जब नायिका को मिसिसिपी की लॉ बुक हाथ लगती है तो उसे पता लगताहै ये सब करना तो वहां के कानून के खिलाफ है। कोई भी व्हाइट नर्स उस अस्पताल में काम नहीं कर सकती जहाँ पर काले लोग बीमार हो। कोई भी काला इंसान गोरों के टॉयलेट इस्तेमाल नहीं कर सकता। और गोरे औरकालों के बीच समानता की बात करना भी अपराध है। कोई ऐसा करता है तो उसके लिए भी जेल के रास्ते खुले है। उस वक्त नायिका और अहसास होता है कि ये काम सच में बहुत खतरनाक है धीरे धीरे वो एब्लिन औरमिनी को अपने अनुभव बताने पर राजी कर लेती है। एब्लिन से जब पहली बार स्कीटर इस बारे में बात करती है तो वो कहती है 


 एब्लिन -they set my cousin shinelle car on fire just cause she went down to the voting station. 

 स्कीटर - a book like this has never been written before .

एब्लिन -because there 's is  reason . I do this with you , I might as well burn my own house  down. 

धीरे धीरे एब्लिन और मिनी अपने अनुभव बताती है और औरतें भी अपने अनुभव बताती है कैसे चोरी के झूठे इल्जाम लगाकर उन्हें जेल भेज दिया जाता है। रेसिज्म की भयानक सच्चाई सामने आती है। किस तरह वोछोटी बच्चे को पाल पोस कर बड़ा करते है और फिर बड़ा होकर वही बच्चा भी रेसिस्ट बन जाता है अपने माँ बापों की तरह। फिल्म भले ही 1960 के अमेरिका के एक स्टेट की कहानी हो पर फिल्म देखकर मुझे 2018 काभारत याद  जाता है। भारत में आज भी घेरलू सहायकों के साथ वैसा ही बर्ताव किया जाता है जैसा इस फिल्म में दिखाया गया है। कामगार अपने हक़ के लिए यूनियन बनाते है दुनिया भर में भारत की राजधानी में ऊँचीऊँची बिल्डिंगो वाले सोसाइटी में रहने वाले  , लम्बी लम्बी कारों में चलने वाले लोग यूनियन बनाते है किसलिए ? अपने आपको डोमेस्टिक हेल्प की लूट से बचाने के लिए।  जी हाँ इन रसूखदार लोगों को ये गरीब खूंखारडोमेस्टिक हेल्प लूट कर खा जाती है इसलिए ये सोसाइटी की यूनियन बनाते  है और डोमेस्टिक हेल्प की अधिकतम तनखाह तय कर दी जाती है। इससे ऊपर सोसाइटी का कोई भी मेंबर किसी भी डोमेस्टिक हेल्प को पैसेनहीं देगा। कमाल बात नहीं है। इन्हे इसमें कुछ भी ग़लत नहीं लगता जैसे मिसिसिपी के गोरे लोगों को रंग आधारित भेदभाव में नहीं लगता था। हफ्ते में रविवार की एक छुट्टी के लिए किये गए संघर्ष को आज भले ही सौसाल से ऊपर हो गए हो पर मजाल है भारत के मध्यम वर्ग को ये बात कोई समझा सके। यहाँ का प्रगतिशील तबके से आज भी ऐसे जुमले सुनने को मिल जाते है कि हम तो अपनी मेड को महीने में चार छुट्टी देते है। गोयाये एक महानता का काम है। ये तो उनका बुनियादी अधिकार है। घर में कोई चीज ग़ुम होती है पहला शक डोमेस्टिक हेल्प पर जाता है भले उसे कितने ही साल उस घर में काम करते हो गए हो। 
बहरहाल फिल्म सबको जरूर देखनी चाहिए।
फिल्म के अलावा एक चेखव की मस्त कहानी पढ़ी। एक क्लब की एक लाइब्रेरी में चार पांच बुद्धिजीवी चुपचाप किताब पढ़ रहे होते है साइड वाले हॉल में नकाब पार्टी चल रही होती है। उसी पार्टी में से एक नकाबधारी तीनचार लड़कियों और दारु की बोतल के साथ उस लाइब्रेरी में  धमकता है और बोतल को उस मेज पर रख देता है जहाँ वो बुद्धिजीवी पढ़ रहे होते है। नशे में धुत वो आदमी उन सबको वहां से जाने के लिए कहता है ताकि वोवहां लाइब्रेरी में पार्टी कर सके। सब बुद्धिजीवी सख्त ऐतराज जताते है मैनेजर को बुलाया जाता है थानेदार को बुलाया जाता है पर वो आदमी किसी की बात नहीं सुनता। आखिर में जब वो आदमी नकाब उतारता है तो पतालगता है वो तो शहर का सबसे सम्मानित और रसूखदार इंसान है। शक्ल देखने के बाद सब बुद्धिजीवियों को अपने किये पर अफ़सोस होता है कि उन्हें उस आदमी के साथ बदतमीजी नहीं करनी चाहिए थी। दस पंद्रह मिनटअगर वो बाहर  जाते तो कौन सी आफत  जाती। सब धीरे धीरे लाइब्रेरी से बाहर निकल जाते है बाहर बैठकर उस आदमी के बाहर आने का इन्तजार करते है ताकि उससे माफ़ी मांगी जा सके। आज के दिन भी येकहानी कितनी सटीक और सच्ची लगती है। 

No comments:

Post a Comment