Followers

Tuesday, 6 June 2017

बेशर्मो की फ़ौज है। बेशर्मो की मौज है


आज सुबह सुबह दो ऐसी भयंकर बेशर्मी देखी कि चाहकर भी इग्नोर नहीं कर सका। एक अमर उजाला अख़बार की हेडलाइन की खबर है

हिंसक हुआ  किसान आंदलोन। फायरिंग में 6 की जान गयी। अश्लीलता का कोई पैमाना हो तो ये खबर दस में से दस नंबर लेकर पास हो। अख़बार को हटाकर फेसबुक देखा तो राम गोपाल वर्मा के दिमाग का गोबर दिखा जिसे देखते ही उबकाई आयी। रामगोपाल वर्मा ने लड़की की आजादी पर लिखा है। मैं इसका जवाब नहीं  चाहता। मेरी दिली तमन्ना है मेरी  फीमेल दोस्त रामगोपाल  को जवाब दे बल्कि कोई उसे पागलखाने में भर्ती करवा दे तो ज्यादा अच्छा हो। फिलहाल मैं अमर उजाला अख़बार की खबर पर लिखना चाहता हूँ।


हैडलाइन है - हिंसक हुआ किसान आन्दोलन। फायरिंग में 6 की जान गयी। किसने फायरिंग की ? नहीं लिखा। हिंसक किसान हुआ, जान किसकी गयी  ? नहीं लिखा। सिर्फ हैडलाइन इतनी अश्लील है , बेईमानी की सारी हदे पार किये हुए है कि सर पीटने को दिल करता है। खबर के अंदर लिखा है कि पुलिस ने फायरिंग की और किसान मारे गए पर हिंसक किसान थे। आगे ये भी लिखा  है करोडो की सरकारी सम्पति को नुकसान पहुँचाया गया। इस कदर बेशर्मी से खबर को लिखा गया है कि सच में देखने का दिल करता है जिसने खबर लिखी है वो नाश्ते में इन्ही किसानों की मेहनत से उगाई फसल से बनी रोटी ही खाता है या वफादारी दिखाते हुए अपने मालिकों का मल खाना ही शुरू कर दिया है।


आगे खबर का मुख कर्ज माफ़ी की तरफ मोड़ दिया है। स्वामीनाथन रिपोर्ट का नाम लेना तक अख़बार के लिए गुनाह है। बड़ी चालाकी से बताया है कि यूपी महाराष्ट्र के किसानो का कर्ज माफ़ हो गया है सब खुश है। मध्य प्रदेश के किसान अड़ियल है। आगे एक आंकड़ा दिया है कि ऐसे कर्ज माफ़ होता रहा तो 257000 करोड़ का कर्ज माफ़ करना पड़ेगा।

इतनी बेशर्मी ये लोग लाते कहाँ से है ये एक रिसर्च का विषय हो सकता है। रिसर्च के विषय और भी है। जैसे किसान स्वामीनाथन रिपोर्ट के लिए आंदोलन करने की बजाय अपनी जाति के लिए आंदोलन करना क्यों पसंद करते है। इनके नेता कौन है। फिलहाल तो जिसने ये फ्रंट पेज की खबर लिखी है वो किसी भाई को मिले तो मेरी तरफ से नमन कर देना। रामगोपाल वर्मा ने बेशर्मी उसे टक्कर देने की पूरी कोशिश की पर काफी बड़े मार्जिन से अमर उजाला जीत गया।




1 comment:

  1. बेहद शर्मनाक बातें हैं दोनों ही,अख़बार पढ़ना बंद करके ख़बरों की ख़बर पढ़ रहे हैं आजकल

    ReplyDelete