Followers

Saturday, 3 June 2017

प्रेम कहानी में लड़का लड़की ही नही होते उनका गोत्र भी होता है



एक प्रेम कहानी में एक लड़का होता है। एक लड़की होती है। प्रेम कहानी में तो यही होता है। पर फिर भी कमाल बात हर प्रेम कहानी एक दूसरे से कितनी अलग कितनी नयी लगती है । लेखक ने भी जब से जातिवाद और नारीवाद से तौबा की है , प्रेम कहानियाँ लिखने का शौक चढ़ा है। कहानी में ज्यादा टेंशन नहीं होती। एक लड़का होता है एक लड़की होती है। बाकी थोड़ा बहुत नमक मिर्च लगाने से बात बन जाती है।

कहानी एक छोटे से शहर की है। लड़के के भाई की शादी है। सब तैयारियों में लगे है रात को बैठे सब "हम आपके है कौन " फिल्म देख रहे है। फिल्म मेंं नायक अपनी भाभी की बहन के साथ शादी में छेड़छाड़ कर रहा है। भाभी की बहन से प्यार लड़के कभी से करते आये है। हरियाणा में तो ऐसी प्रेम कहानियों का थीम सांग भी  है। भाभी देवर की मंशा देख कर कहती है

मेरे पाछे पाछे आवन का भला  कौन सा मतबल  तेरा से
होये फिरे बेईमान तू तन्ने इश्क जाल ने घेरा से।

देवर भी जवाब देता है
मन्ने के पूछे भाभी तन्ने सब बातां का बेरा से

भाभी को भी पता है कि देवर भाभी की बहन से प्यार करता है। ये गंगा सदियों से इसी दिशा में बह रही है। एक अनलिखित विधान है भाभी का भाई जीजा की बहन से प्यार नहीं कर सकता। " हम आपके है कौन " ने जाने कितनी प्रेम कहानियों को मान्यता दिलाई है। लेखक की ये प्रेम कहानी तो शुरू ही "हम आपके है कौन" के प्रभाव से हुयी।
लड़के की भाभी की चाचा की लड़की लड़के की उम्र की है। दोनों के घर वालो ने दोनों को छेड़ छेड़ कर आपस में प्यार करने पर मज़बूर कर दिया। दोनों के परिवार वालो के लिए सुविधा जनक था। जाति में , जान पहचान में शादी भी हो जाये। बच्चो के प्यार करने का अरमान भी पूरा हो जाये। इससे अच्छा और क्या होगा।
शादी में लड़के ने लड़की को गिफ्ट दिया। लड़की ने भी सबसे छुप कर लड़के को गिफ्ट दिया। शादी में गाना बज रहा था।

झूमता मौसम मस्त महीना ,चाँद सी गोरी एक हसीना
आँख में काजल , मुंह पर पसीना
याला याला दिल ले गयी

कोई रंगीला सपनो में आकर , एक नजर में अपना बना के
याला याला दिल ले गया।

लड़का अपनी आँखों में अपनी प्रियतमा को बसा कर बारात के साथ वापिस चला गया। फिर शार्ट मेसज सर्विस , व्हाट्सप्प फोन का सिलसिला शुरू हुआ। लड़का लड़की एक दूसरे के नाम से डार्लिंग , जानू , हनी , स्वीटू पर आ गए। लड़का दिल्ली  से स्पेशल लड़की से मिलने आता और बिना घरवालों से मिले वापिस चला जाता।

पर प्रेम कहानी सिर्फ लड़के लड़की के प्यार पर ख़त्म हो जाए उस  प्रेम कहानी को कोई नहीं सुनता। प्रेम कहानी में अड़चन आना बहुत ज़रूरी है और प्रेम कहानी अगर भारत में हो तो अड़चनों की वैसे ही कोई कमी नहीं होती। इस प्रेम कहानी में भी अड़चन आ गयी। लड़की की माँ का गोत लड़के के बाप के गोत से मिल गया। जितनी आसानी से घर वालो ने रिश्ते की बात शुरू की थी उससे भी आसानी से रिश्ते की बात बंद कर दी। पर घरवालों को इश्क की आतिश का अंदाजा नहीं था। प्रेमी युगल  को जब ये फरमान सुनाया गया तो दोनों के अरमानो पर जैसे बिजली गिर गयी। पर घर की मर्जी के खिलाफ शादी करना दोनों के ही बस की बात नहीं थी।

21वीं सदी में जब दुनिया मंगल ग्रह पर जाने की जुगत लगा रही थी। स्टीफन हाकिंग दुनिया पर रोबॉट का राज हो जाने का खतरा बता रहे थे। वैज्ञानिक एड्स जैसी बीमारी के इलाज के काफी करीब थे। मानव क्लोनिंग और जाने क्या क्या बातें हो रही थी। ठीक उसी समय एक देश के का एक छोटे से प्रदेश ने अपने सारे वैज्ञानिक , जज , इंजीनियर , डॉक्टर गोत "जिसे पंडित लोग गोत्र भी कहते है " में शादी न करने के फायदे ढूँढ़ने में लगाये हुए थे। ढेरो वैज्ञानिको ने ग़ज़ब ग़ज़ब रिसर्च कर के ये पता लगा लिया था कि गोत में शादी नहीं करनी चाहिए। बहुत से जानवर भी नहीं करते। मैंने तो खैर आज तक कोई जानवर शादी करता भी नहीं देखा। गाय और गोत में अपना सारा विज्ञान खपा चुके देश की हालत ये थे कि सुई से लेकर लिफ्ट तक हर चीज बाहर से इम्पोर्ट करनी पड़ती है। सारा देश पूरी दुनिया के लिए एक असेंबली सेक्शन बन गया था।  खैर लेखक प्रेम कहानी के दायरे से बाहर जा रहा है। यही होता है जब कोई दो लाइनर चुटकुले सुनाने वाला प्रेम कहानी लिखने बैठ जाता है। प्रेम कहानी लिखना हर के बस की बात नहीं है। सिर्फ प्रेम पर ध्यान केंद्रित करना पड़ता है। बाकी दुनिया में जो हो रहा है उसे भूलना पड़ता है।

लेखक दोबारा प्रेम कहानी पर आता है। प्रेमी जोड़े  ने एक दूसरे को भूल जाने के वायदे किये। रोये। आँसू बहाये। दर्द भरे गाने गाये। और कर भी क्या सकते थे। शादी तो नहीं हो सकती थी। लड़की की माँ का गोत लड़के के पापा के गोत से मिलता था और उस प्रदेश के साइंटिस्ट ये साबित कर चुके थे कि ऐसी शादी नहीं हो सकती है। अगर शादी होती है तो लड़का लड़की दोनों  कुल्हाड़ी से कट कर मर सकते हैं। ऐसा हरियाणा के वैज्ञानिक कई बार साबित  भी कर चुके थे। फिर लड़का लड़की ने अपने दिल को समझा लिया। हर दूसरी रात  वो एक दूसरे को खुश रहना , अलविदा का मैसेज भेजते और अगली सुबह "गुड मॉर्निंग जानू " का।

ये सिलसिला कुछ महीने चला। कुछ महीनो बाद वो स्टेज आ गयी कि लड़का लड़की विद्रोह के लिए तैयार होने लगे। शादी होगी तो यहीं होगी नहीं तो नहीं होगी।  लड़का लड़की ने ये ऐलान अपने अपने घरों में कर दिया। उनके घर वालों ने " हम आपके है कौन " देखी हुई थी तो उन दोनों ने भी " दिलवाले दुल्हनियां ले जायेंगे " जाने कितनी बार देखी हुई थी। लड़के ने फेसबुक पर घोषणा कर दी शादी होगी तो घरवालों की सहमति से होगी नहीं तो  नहीं होगी। घरवालों ने हाथ की हाथ कमेंट कर दिया कि ये तो बढ़िया बात है यानी शादी नहीं होगी।

अब लड़का लड़की घरवालों का दिल जीतने की भरपूर कोशिश करने लगे।  उनकी  कोशिश नाकाम ही साबित हुई। लड़के के दोस्त भी लड़के को ये समझाने में लगे थे कि भाई ये संभव नहीं है। विज्ञान में साबित हो चुका है ऐसी शादी नहीं हो सकती। तू  लड़की को भूल जा। ये हो सकता है। हमारे सब के साथ हुआ है। तू कोई लाट साहब है। पर लड़का टस से मस नहीं हुआ। हार कर  लड़के के दोस्त घरवालों को मनाने की कोशिश में लग गए। घरवाले अपने कुल , परंपरा , संस्कृति की दुहाई देने लगे। लड़के के दोस्तों ने समझाया कि हमारे कुल और इतिहास में तो इसके लिए जगह है।  कृष्ण ने अपनी बहन अपनी बुआ के लड़के के साथ भगा दी थी। हम तो बाकायदा शादी  की बात कर रहे है। घरवालों को थोड़ी सी बात जँची पर फिर वही

खूंटा तो वही गड़ेगा।

वो तो भगवान थे। हम भगवान नही हैैं ये शादी नहीं हो सकती। चाहे लाख तूफ़ां आयें चाहे जान भी चली जाए पर ये शादी नहीं हो सकती। लड़के के दोस्त पहले ही मरे मुँह से गए थे। आधी लड़ाई तो घर से चलते वक्त ही हार गए थे। इस देश को पेरेंट्स को सही ग़लत समझाना मतलब हाथी को चड्डी पहनाना। जहाँ सारे तर्कों का आधार ही एक हो कि हमारे यहाँ तो यही होता है। कभी से हो रहा है तो उनको कैसे समझाया जा सकता है।

साल दर साल बीतते जा रहे थे हल कोई सूझ नहीं रहा था। लेखक को कहानी ख़त्म भी करनी थी। पर लड़का और लड़की लेखक से भी बगावत कर चुके थे। लेखक ने सोचा था दोनों की लव मैरिज करा कर हरियाणा से दूर मुंबई या बैंगलोर सेट करा देंगे। हैप्पी एंडिंग। पर लड़का लड़की पर तो डीडीएलजे का भूत सवार था। जब अमरीश पूरी मान सकता है तो उनके घरवाले तो अमरीश पूरी से अच्छे है वो भी मान जायेंगे। लेखक को लड़का लड़की को डीडीएलजे की स्क्रिप्ट का वो पन्ना दिखाना पड़ा जो यश चोपड़ा ने जान बूझकर फाड़ दिया था। जिसके कारण एक पूरी प्रेमियों की नस्ल अपनी प्रेमिकाओ के घर बर्तन धोते धोते उनके बच्चो के मामा बनने पर मजबूर हो गई।

"दरअसल डीडीएलजे में अमरीश पूरी के शाहरुख़ को थप्पड़ मारने और उसके  ये कहने ," जा सिमरन जी ले अपनी ज़िन्दगी " के बीच में भी एक सीन था जो जानबूझ का काट दिया गया। जब शाहरुख़ सेवा कर के थक गया थप्पड़ खा के थक गया पर बाउजी नहीं माने तब हार कर सिमरन ने बाउ जी को अपनी और राज  शादी का सर्टिफिकेट दिखाया जो उन्होंने यूरोप में ही कर ली थी। बाउ जी बन्दुक उठाने ही वाले थे कि सिमरन ने अख़बार की कटिंग भी दिखा दी जिसमे सिमरन और राज ने अख़बार में छपवाया हुआ था कि उन्हें बाउजी से जान का खतरा है अगर उन्हें कुछ हुआ तो बाउ जी को जेल में डाल देना। बाउ जी ने बंदूक दूर फेंक दी और बोले ,"दफा हो जा। आज से तू मेरी कोई नहीं मैं तेरा कोई नहीं। " इस सिमरन ने आखिरी दाँव खेला ," अच्छा  रिश्ता ही तोड़ रहे हो तो मेरे हिस्से की जमीन मुझे दे दो। दादा की मिल्कियत पर पोती का भी हक़ होता है। " सिमरन साथ में कानून की किताब ही लायी थी। अब बाउ जी गिड़गिड़ाने के मोड़ में आ गए थे ," अरे मेरी बेटी , मैं तो मजाक कर रहा था। तू तो मेरी जिगर की टुकड़ी है। जा बेटा जा ऐश कर। जा सिमरन जी ले अपनी ज़िन्दगी। "

ये स्क्रिप्ट जब लेखक ने लड़के को सुनायी तो लड़के को अक्ल आयी। हिम्मत करके लड़का लड़की ने कोर्ट मैरिज कर ली रात को सर्टिफिकेट की फोटो खिंच कर घरवालों को वट्सअप्प कर दिया। और सांस रोककर घरवालों के रिएक्शन का इन्तजार करने लगे।

फिर क्या हुआ ?

6 महीने बाद पूरे धूम धाम के साथ घरवालों ने लड़का लड़की की शादी कर दी।

हैप्पी एंडिंग।

लेखक भी साहिर का शेर गुनगुना रहा था

- ये शादी खाना आबादी हो मेरे मोहतरम भाई
   मुबारक कह नहीं सकता मेरा दिल काँप जाता है।



----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------




















6 comments:

  1. बेहतरीन कहानी या सच्चाई..ख़ैर जो भी हो।आज अख़बार की ख़बरों से हटकर प्रेम कहानी पढ़ना अच्छा रहा।

    ReplyDelete
  2. शानदार। यश चोपड़ा का फाड़ा हुआ पन्ना पूरी फिल्म पर भारी है।

    ReplyDelete
  3. ये बेस्ट है। अब तुम प्रेम कहानी ही लिखो।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर कहानी ... ,

    ReplyDelete
  5. ग़ज़ब धुरंधर लास्ट पूरी कहानी पर भारी

    ReplyDelete